रद्द भर्ती परीक्षाएंः युवाओं पर भारी, एजेंसियां मालामाल

राजस्थान में कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर रद्द होने के बाद एकबार फिर पूरा सिस्टम सवालों के घेरे में आ गया है। प्रदेश में चार साल के भीतर सात भर्ती परीक्षाएं रद्द हो चुकी हैं। परीक्षा कराने वाले बोर्ड, एजेंसिंयां तो मालामाल हो रहे हैं, लेकिन नौकरी चाहने वाले असंख्य युवा लाखों रुपए खर्च करने के बाद भी भविष्य को लेकर अंधकार में हैं। 

प्रदेश में पुलिस की कांस्टेबल से लेकर सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षाएं विवादों में रही हैं। परीक्षाओं में नेट बंद करने का सिलसिला पहली बार 2018 में हुई कांस्टेबल भर्ती परीक्षा से ही शुरू हुआ था। गत4 सालों में रीट 2021, पटवारी, आरएएस, लाइब्रेरियन, जेईएन, फार्मासिस्ट सहित कई परीक्षाएं विवादों के घेरे में आई हैं।

एक छात्र एक परीक्षा की तैयारी में औसतन डेढ़ लाख रुपए खर्च करता है। इन परीक्षाओं की बदौलत बोर्ड करोड़ों रुपए कमा रहा है। फिर भी हर भर्ती के बाद अभ्यर्थियों के साथ छलावा हुआ है। उन बेरोजगार के साथ जो घर से दूर छोटे-छोटे कमरों में कई सालों से तैयारी कर रहे हैं। बेरोजगारों ने किताबें, किराए के कमरे से लेकर खाने, परीक्षा फॉर्म से लेकर 300 किमी दूर परीक्षा देने तक लाखों रुपए खर्च किए।

जब परीक्षा होती है तबसुरक्षा के नाम पर महिलाओं के गहने, सुहाग की निशानी और साड़ियां तक उतरवाई जा रही हैं। वहीं लड़कों को बनियान में परीक्षाएं दिलवाई गईं। फिर भी पेपर आउट होने का सिलसिला और फर्जीवाड़ा रुक नहीं रहा है। परीक्षा देने से पहले हादसों में 6 अभ्यर्थियों की मौत तक हो चुकी है।

चार साल में 6 बड़ी भर्तियों के अलावा आरएएस भर्ती, शिक्षा सहायक, असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती, लैब टेक्नीशियन, सहायक रेडियोग्राफर, ईसीजी टेक्नीशियन, स्कूल व्याख्याता, प्री प्राइमरी शिक्षक आदि कई भर्ती परीक्षाएं विवादों में आ चुकी है। अकेले रीट में 26 लाख आवेदन आए, कांस्टेबल में 18 लाख, पटवारी भर्ती में 15 लाख, एसआई में 7 लाख, कांस्टेबल भर्ती 2019 में 17.50 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे। मगर भर्तियों के अटकने और नकल गिरोह के कारण 70 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी प्रभावित हुए हैं।

राजस्थान में बड़ी परीक्षाएं राजस्थान लोकसेवा आयोग, आरएसएमएसएसबी, आईबीएसईकरवाते हैं।बीते 1 साल में 5 बड़ी परीक्षाओं से ही इन भर्ती संस्थानों ने 90 करोड़ से ज्यादा की कमाई की।एसआईभर्ती परीक्षा में 8 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया, जिससे आरएसएमएसएसबी को 12 करोड़ रुपए मिले। आरएएस- 2018 के लिए 6 लाख 50 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया। इससे लोकसेवा आयोगको 9 करोड़ रुपए मिले।रीट 2021 के लिए 26 लाख आवेदन हुए। आरबीएसईने इससे 40 करोड़ से ज्यादा की कमाई की।पटवारी भर्ती परीक्षा के लिए 15 लाख के करीब आवेदन हुए। इससे आरएसएमएसएसबी को 6 करोड़ रुपए मिले। नेशनल टेस्टिंग एजेंसीने नीटके आवेदनों से ही तीन साल में 565 करोड़ की कमाई कर ली।2019 में नीट के आवेदन से 192 करोड़, 2020 में 200 करोड़, 2021 में 173 करोड़ रुपए कमाई की। (साभार–भास्कर)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.