सन्यास बाद भज्जी का छलका दर्द

इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद हरभजन सिंह ने बीसीसीआईपर सवालिया निशान खड़े किए हैं। पूर्व ऑफ स्पिनर का कहना है कि टीम इंडिया का कप्तान बनने के लिए बोर्ड में सिफारिश की जरूरत पड़ती है। वह बोर्ड में किसी को नहीं जानते थे, शायद इसीलिए कभी टीम के कैप्टन नहीं बनाए गए।

हरभजन सिंह ने पिछले साल 24 दिसंबर को इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से रिटायरमेंट का ऐलान किया था। न्यूज 18 को दिए इंटरव्यू भज्जी ने कई सवालों के जवाब दिए। उन्होंने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ रिश्ते के बारे में कहा- मुझे धोनी से बिल्कुल भी शिकायत नहीं है। हम तो इतने वर्षों से एक अच्छे दोस्त रहे हैं। मुझे उस समय की बीसीसीआईसरकार से शिकायत है। मैं बीसीसीआईको सरकार कहता हूं। उस समय के सिलेक्टर्स ने अपनी भूमिकाओं के साथ न्याय नहीं किया। उन्होंने टीम को एकजुट नहीं होने दिया।

भज्जी ने आगे कहा- मैं केवल यह बताना चाहता हूं कि 2012 के बाद बहुत सी चीजें बेहतर हो सकती थीं। मेरे अलावा वीरेंद्र सहवाग, युवराज सिंह, गौतम गंभीर भारतीय टीम के लिए खेलकर संन्यास ले सकते थे, क्योंकि हम सभी आईपीएलमें खेल रहे थे। यह समझ से परे ही है कि 2011 की चैंपियन टीम फिर कभी एक साथ नहीं खेली। क्यों उनमें से केवल कुछ ही खिलाड़ी 2015 विश्व कप में खेले, क्यों?

भज्जी ने कहा- अनिल (कुंबले) भाई के लिए मेरे मन में बहुत ज्यादा सम्मान है। जहां तक मेरी क्रिकेट की जानकारी है, उनसे बड़ा मैच विनर कोई नहीं हुआ। उनके साथ खेलना मेरे लिए सौभाग्य की बात रही है। हां, कई मौकों पर मुझे उनके ऊपर प्लेइंग XI में चुना गया था, जैसा कि 2003 वर्ल्ड कप के दौरान हुआ, लेकिन मैंने उन्हें कभी इसको लेकर परेशान नहीं देखा।

भज्जी निकनेम से मशहूर हरभजन सिंह ने टीम इंडिया के लिए 103 टेस्ट मैच खेले हैं। उनके नाम 417 विकेट दर्ज है। वनडे में उन्होंने 236 मैचों में 269 विकेट लिए हैं। टी-20 में भज्जी ने भारत के लिए 28 मुकाबले खेले हैं। इनमें उन्होंने 25 विकेट झटके हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.