पुलिस वर्दी में लूटपाट करने वाले पकड़े गए

जयपुर में पुलिस की वर्दी पहनकर घरों में घुसकर लूटपाट करने वाले गैंग का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। गैंग के बदमाश ऐसे घरों की रेकी करते थे, जहां महिलाएं अकेली रहती हों। वारदात के लिए सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक का समय तय करते। भय दिखाकर महिलाओं से रुपए की मांग करते थे। जयपुर की भांकरोटा पुलिस ने शुक्रवार को गैंग के 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया। इन बदमाशों के आपराधिक रिकॉर्ड की जांच की जा रही है।

डीसीपी (वेस्ट) वंदिता राणा ने बताया कि पुलिस की वर्दी पहनकर लूटपाट करने वाले गैंग के बदमाश भूरानाथ (30), अर्जुन नाथ (24) व हेमंत नाथ (25) निवासी आलोट रतलाम और दीपक नाथ (18) निवासी भैरूगढ़ उज्जैन मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं। गुरुवार शाम को चारों पुलिस की वर्दी में सिरसी रोड स्थित चाय की दुकान पर गए थे। चाय की दुकान करने वाले पुलिस मित्र कमलेश चौधरी ने पुलिस की वर्दी देखकर उनकी पोस्टिंग के बारे में पूछा। उन्होंने खुद को सीआईडी में होना बताया।

शक होने पर चारों वहां से चले गए। पुलिस मित्र की सूचना पर भांकरोटा पुलिस ने पीछा कर चारों फर्जी पुलिसकर्मियों को पकड़ लिया। शुक्रवार सुबह इनकी गिरफ्तारी दिखाई गई। इनके कब्जे से पुलिस वर्दी और दो बाइक जब्त की गई। पूछताछ में आरोपियों ने मानसरोवर, प्रताप नगर और खोह नागोरियान में वारदात का प्रयास करना स्वीकार किया है। आरोपी भूरानाथ गोनेर मोड़ पर झुग्गी में पिछले 7 सालों से रह रहा है। उसके साथ ही हेमंत और दीपक रह रहे हैं। वाटिका रिंग रोड पर झुग्गी बनाकर अर्जुन कालबेलिया रह रहा है। चारों आरोपी जयपुर में गैस चूल्हा मरम्मत और कुर्सी-कंबल बेचने का काम करते थे। उन्होंने रुपए की तंगी को मिटाने के लिए पुलिसकर्मी बनकर रुपए ऐंठने का प्लान बनाया। प्लान के तहत भूरानाथ और हेमंत दोनों पुलिस की वर्दी खरीदकर लाए। पिछले 6 दिनों से पुलिस की वर्दी पहनकर शहर के विभिन्न इलाकों में वे लोगों को डरा-धमकाकर रुपए वसूलने लगे।

गैंग के सदस्य ऐसे घरों की जानकारी करते, जहां महिलाएं अकेली रहती हैं। बाइक पर सवार होकर पुलिस की वर्दी में रेकी किए घरों पर जाते। महिलाओं को सीआईडी में होना बताते। घर के लोगों के बारे में पूछताछ करते। फिर डराने के लिए कहते कि आप लोगों के खिलाफ शिकायत मिली है। आप लोग गलत काम करते हो। पूरे घर की तलाशी लेनी होगी। थोड़ी देर में हम बड़े अफसरों को सूचना देंगे तो पुलिस आएगी। पुलिस रेड का भय दिखाकर रुपए की मांग करते। रुपए दे दिए तो बड़े अफसर से शिकायत नहीं करेंगे। नहीं तो सारी संपत्ति की जांच होगी। रुपए और कीमती सामान जब्त करना पड़ेगा। अगर कॉल कर दिया तो उलटा पड़ जाएगा।

महिला के कॉल करने या विरोध करने पर वहां से बहाना बनाकर निकल जाते थे। नहीं तो झांसे में लेकर रुपए वसूलकर भाग निकलते। घर में महिला से बातचीत के दौरान कोई व्यक्ति या पड़ोसी के आ जाने पर बहरुपिया होने का नाटक कर फरार हो जाते थे। जयपुर के करधनी और मानसरोवर में मंगलवार दोपहर पुलिस की वर्दी पहन कर आए बदमाशों ने लूट की कोशिश की थी। करधनी थाना इलाके भंवरसिंह नरूका की पत्नी ब्रिजेश कंवर पर बदमाशों ने पानी पीने के बहाने हमला कर दिया। ब्रिजेश कंवर ने भी बदमाशों की गर्दन पकड़ ली। घर में मौजूद कुत्ते ने भी हमला कर दिया। इस दौरान बदमाश भाग निकले।

वहीं, मानसरोवर में बाइक सवार दो पुलिस की वर्दी पहने हुए एक मकान की घंटी बजाते हैं। मकान से महिला बाहर आती है। पुलिसकर्मी खुद को मानसरोवर थाने का स्टाफ बताकर उससे बात करने लगता है। बदमाश महिला को बार-बार गेट खोलने के लिए बोलता है, लेकिन महिला गेट नहीं खोलती। इस पर दोनों पुलिसकर्मी झुंझलाकर मौके से भाग जाते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.