बुजुर्ग, अवार्डी, पत्रकार-सबकी रियायतें बंद

आखिरकार केन्द्र की मोदी सरकार ने अपनी मंशा जाहिर कर ही दी। उसने साफ कर दिया कि कोरोना के समय बंद की गई ज्यादातर रेल रियायतें फिलहाल चालू नहीं की जाएंगी। मतलब, ट्रेन टिकट पर कई यात्रियों को मिलने वाली छूट खत्म कर दी गई है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पिछले हफ्ते लोकसभा में बताया था कि कोरोना महामारी के चलते 20 मार्च 2020 को रेलवे ने कई रियायतों को रोक दिया था और इस रोक को हटाने का कोई विचार नहीं है। यह रोक बुजुर्गों के ट्रेन टिकट की रियायत पर भी जारी रहेगी।

रेल मंत्रालय के अनुसार कोरोना से पहले रेलवे 53 कोटियों में ट्रेन टिकट पर छूट देता था। अब रेल मंत्री वैष्णव ने बताया कि अभी केवल दिव्यांगजनो की 4 श्रेणियों तथा मरीजों-छात्रों की 11 श्रेणियों को ही रियायत दी जा रही है। 

इनको रियायात जारी

शारीरिक रूप से विकलांग ऐसे लोगों को किराये में छूट मिलती है, जो किसी सहयोगी के बिना यात्रा नहीं कर सकते। ऐसे लोगों को फर्स्ट और सेकंड एसी में 50 फीसदी और बाकी क्लास में 75 फीसदी तक की छूट मिलती है। नेत्रहीनों को भी राजधानी और शताब्दी गाड़ियों की थर्ड एसी और कुर्सी यान के टिकट पर 25 फीसदी की रियायत जारी है। ये छूट नेत्रहीन व्यक्ति के साथ यात्रा कर रहे एक व्यक्ति को भी मिल रही है। मानसिक रूप से विकलांग व्यक्ति और उसके साथ यात्रा कर रहे एक साथी को मंथली और क्वार्टली पास पर 50 फीसदी की छूट जारी है। मूक-बधिर व्यक्ति और उसके साथ यात्रा कर रहे एक यात्री को भी ट्रेन टिकट और मंथली या क्वार्टली पास पर 50 फीसदी की छूट दी जा रही है।

इनके अलावा जांच या इलाज के मकसद से यात्रा कर रहे कैंसर रोगी और उसके साथी यात्री को 75 फीसदी की छूट मिल रही है। ये छूट स्लीपर और थर्ड एसी में 100 फीसदी तक रहती है, जबकि फर्स्ट और सेकंड एसी में 50 फीसदी की छूट है। थैलीसिमिया के मरीज को भी फर्स्ट और सेकंड एसी की टिकट में 50 फीसदी और बाकी क्लास की टिकटों में 75 फीसदी की छूट मिलती है। ये छूट उसके साथ यात्रा करने वाले को भी मिलती है। यही छूट हार्ट और किडनी की समस्या से जूझ रहे मरीजों को भी पूर्ववत मिल रही है। हैमोफीलिया के मरीज और उसके साथ यात्रा कर रहे एक यात्री को ट्रेन टिकट में 75 फीसदी की छूट मिल रही है। इनको फर्स्ट या सेकंड एसी के टिकट पर छूट नहीं मिलती है। टीबी या लुपस वलगेरिस से पीड़ित मरीजों को इलाज या जांच के लिए यात्रा करने पर टिकट में 75 फीसदी की छूट जारी है। यही छूट कुष्ट मरीजों को भी मिल रही है। इन मरीजों को फर्स्ट या सेकंड एसी के टिकट पर कोई रियायत नहीं दी जाती। एड्स और ऑस्टोमी के मरीजों को सेकंड क्लास की टिकट पर 50 फीसदी की छूट दी जाती है। ऐसे मरीजों को मंथली और क्वार्टली पास बनवाने पर भी 50 फीसदी की रियायत मिलती है। अप्लास्टिक एनीमिया और सिकल सैल एनीमिया के मरीजों को स्लीपर, एसी 2 टियर, थर्ड एसी, कुर्सी चेयर कैटेगरी की टिकट पर 50 फीसदी की रियायत दी जा रही है। हालांकि, ये रियायत तभी मिलती है जब मरीज मेल या एक्सप्रेस गाड़ियों के मान्यता प्राप्त अस्पतालों में इलाज के लिए यात्रा करते हैं।

इनकी रियायत बंद

60 साल से ऊपर के बुजुर्ग पुरुषों को किराये में 40 फीसदी और 58 साल से ऊपर की बुजुर्ग महिलाओं को 50 फीसदी की छूट मिलनी बंद हो गई है। इनके साथ ही राष्ट्रपति पुलिस पदक और भारतीय पुलिस पुरस्कार के विजेताओं को 60 साल के बाद किराये में छूट बंद है। पुरुषों को 50 फीसदी और महिलाओं 60 फीसदी छूट मिलती रही है। श्रम पुरस्कार विजेताओं को 75 फीसदी, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता शिक्षकों को 50 फीसदी और राष्ट्रीय शौर्य पुरस्कार विजेताओं को 50 फीसदी छूट भी बंद हो गई है। आतंकवादी या उग्रवादी घटनाओं में शहीद हुए पुलिसकर्मी या पैरा मिलिट्री फोर्स के शहीद जवानों की पत्नी को सेकंड क्लास और स्लीपर में 75 फीसदी की छूट औऱ कारगिल युद्ध और श्रीलंका में कार्रवाई के दौरान शहीद हुए जवानों की पत्नी को मिलने वाली छूट बंद कर दी गई है।

इसी प्रकार अपने घर या शैक्षणिक दौरों पर जाने वाले छात्रों को 50-75 फीसदी तक की छूट बंद है। ग्रामीण इलाकों में स्थित सरकारी स्कूलों के छात्रों को साल में एक बार शैक्षणिक दौरे पर जाने के लिए सेकंड क्लास की टिकट पर 75 फीसदी की छूट भी रोकी गई है। ग्रामीण इलाकों के सरकारी स्कूलों की छात्राओं को भी यही छूट मिलती थी। यूपीएससी या एसएससी की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को सेकंड क्लास में 50 फीसदी की छूट, 35 साल तक के स्कॉलर, भारत सरकार के कार्यक्रमों में भाग लेने वाले विदेशी छात्रों को सेकंड और स्लीपर क्लास की टिकट पर 50 फीसदी की रियायत बंद है।

राष्ट्रीय युवा परियोजना और मानव उत्थान समिति के कार्यक्रमों में भाग लेने जा रहे युवाओं को 40 से 50 फीसदी की छूट रुकी हुई है। केंद्र या राज्य सरकार की नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जा रहे युवाओं को 50 से 100 फीसदी तक की छूट भी बंद है। स्काउटिंग ड्यूटी के लिए स्काउट्स और गाइड्स को भी सेकंड और स्लीपर क्लास में 50 फीसदी की छूट, प्रदर्शनी में भाग लेने जा रहे किसानों को सेकंड और स्लीपर क्लास में 25 फीसदी की छूट, सरकार की विशेष गाड़ियों में यात्रा करने वाले किसानों को 33 फीसदी छूट, फार्मिंग या डेयरी संस्थानों का दौरा करने वाले किसान यात्रियों को सेकंड और स्लीपर क्लास की टिकट पर 50फीसदी की छूट, परफॉर्मेंस के लिए जा रहे कलाकारों और फिल्म से जुड़े टेक्नीशियन को 50-75 फीसदी की छूट तथा स्टेट या नेशनल लेवल के टूर्नामेंट में हिस्सा लेने जा रहे खिलाड़ियों को भी 50 से 75 फीसदी छूट कोरोना की शुरूआत से बंद है। 

इसी के साथ केंद्र या राज्य सरकार से मान्यता प्राप्त पत्रकारों को मीडिया से जुड़े काम के लिए यात्रा करने पर किराये में 50 फीसदी की छूट और साल में दो बार पत्नी और बच्चे के साथ रियायती यात्रा की छूट रोकी गई है। किसी भी मकसद से यात्रा कर रहे एलोपैथिक डॉक्टरों को टिकट पर 10 फीसदी की छूट नर्स को छुट्टी या ड्यूटी के लिए सेकंड और स्लीपर क्लास की टिकट पर 25 फीसदी की छूट बंद है।

रेल मंत्री वैष्णव ने 16 मार्च को लोकसभा में बताया था कि रियायतें देने से रेलवे पर भार पड़ता है, इसलिए वरिष्ठ नागरिकों समेत बाकी यात्रियों को दी जाने वाली रियायत का दायरा बढ़ाना सही नहीं है। उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण रेलवे का आय में काफी कमी आई है।

इससे पूर्व दिसबंर 2021 में रेल मंत्री वैष्णव ने जानकारी दी थी कि यात्री टिकटों की बिक्री से रेलवे को 2019-20 में 50,669 करोड़ रुपये का रेवेन्यू मिला था, जो 2020-21 में घटकर 15,248 करोड़ रुपये हो गया। 2021-22 में सितंबर तक रेलवे को 15,434 करोड़ रुपये का रेवेन्यू मिला था। वहीं, इसी साल फरवरी में उन्होंने संसद में जानकारी दी थी कि रेल टिकटों पर रियायत देने की वजह से रेलवे को 2018-19 में 1,995 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। ये घाटा 2019-20 में बढ़कर 2,059 करोड़ रुपये हो गया। रियायतें बंद करने से रेलवे को 2020-21 में केवल 38 करोड़ रुपये का घाटा हुआ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.